उज्जैन जिले के बारे में | General knowledge of Ujjain district

हैल्लो दोस्तों इस पोस्ट में हम जानेंगे General knowledge of Ujjain district कुछ महत्वपूर्ण तथ्य जो कि आपके mp के प्रतियोगी परीक्षाओं की दृष्टि से अतिमहत्वपूर्ण हैं।

General knowledge of Ujjain district

शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक महाकालेश्वर स्थित है।

उज्जैन का प्राचीन नाम उज्जैनी तथा अवंतिका है।

मौर्य समाज अशोक अपने सम्राट बनने के पहले इसका राज्यपाल था।

हर 12 वर्ष में सिंहस्थ कुंभ का मेला आयोजित होता है।

उज्जैनी को भारत की संस्कृति कला का मणिचक्र माना गया है ।

मेघदूत काव्य में कालीदास उज्जैनी का वर्णन किया है।

मेघदूत काव्य में अमरकंटक के प्राकृतिक सौंदर्य का वर्णन भी किया गया है ।

जंतर मंतर खगोलीय वेधशाला सवाई राजा जयसिंह ने स्थापित की है। मंगल नाथ, मंगल ग्रंथ की उत्पत्ति से संबंधित है।

महिकपुर में सरकारी शक्कर कारखाना स्थित है ।

कायथा में ताम्र पाषाण युगीन उपकरण प्राप्त हुए हैं ।

महर्षि पाणिनि संस्कृत विश्वविद्यालय जुलाई 2008 में स्थापित किया गया है ।

उज्जैन शिप्रा नदी के किनारे बसा हुआ मध्य प्रदेश का एक प्रमुख जिला है।

उज्जैन नगरी को कालिदास की नगरी के नाम से भी जाना जाता है, क्योंकि उज्जैन कालिदास की सबसे प्रिय नगरी है।

इंदौर से उज्जैन की दूरी 55 किलोमीटर है।

उज्जैन में अनेक तीर्थ स्थल है जैसे – अवंतिका, उज्जैनी, कनक श्रृंगा आदि !

उज्जैन मंदिरों का एक नगर है, उज्जैन की जनसंख्या लगभग 20 लाख है।

General knowledge of Ujjain district
General knowledge of Ujjain district

इतिहास-

उज्जैन क्षेत्र में हुई खुदाई में ऐतिहासिक एवं प्रारंभिक लौह युगीन सामग्री अत्यधिक मात्रा में प्राप्त हुए हैं उज्जैन का उल्लेख महाभारत व पुराणों में भी मिलता है

श्री कृष्ण और बलराम उज्जैन में गुरु संदीपनी के आश्रम में विद्या प्राप्त करने के लिए आए थे कृष्ण की पत्नी मित्र वृंदा उज्जैन की राजकुमारी थी और

उनके दो भाई भी थे विंद एवं अनुविंद जो महाभारत के युद्ध में कौरवों की ओर से युद्ध किया और वीरगति प्राप्त हो गए ।

छठी सदी में उज्जैन में एक अत्यंत प्रतापी राजा हुए थे जिनका नाम चंड प्रद्योत था भारत के अन्य शासक भी उनसे डरा करते थे

उसकी दुहिता वासवदत्ता एवं वत्स नरेश उदय की प्रणय कथा इतिहास प्रसिद्ध है प्रद्योत वंश के उपरांत उज्जैन मगध सम्राट का अंग बन गया।

उज्जैन को महाकाल नगरी के नाम से जाना जाता है

कायथा वराह मिहिर की जन्मभूमि है और यहां पर डंगवाला ताम्र पाषाण युग सभ्यता

दुर्गादास की छत्री उज्जैन में है इसके अलावा सांदीपनि आश्रम, 24 खंबा, बेगम का रोजा ,नगरकोट की रानी ,बोहरा का रोजा, गढ़ कालिका मंदिर, डॉक्टर वाकणकर संग्रहालय, सिंधिया प्राच्य शोध संस्थान आदि प्रमुख स्थल है

उज्जैन जिले का क्षेत्रफल 6091 वर्ग किलोमीटर है

उज्जैन जिले मैं 9 तहसीलें हैं

snतहसील नाम
1.उज्जैन
2.घटिया
3.बडनगर
4.खाचरोद
5.नागदा
6.महिदपुर
7.तराना
8.माकदान
9.झारड़ा
General knowledge of Ujjain district (तहसील)

उज्जैन से पृथक नया जिला नागदा प्रस्तावित है

उज्जैन को मध्य प्रदेश की नॉलेज सिटी के नाम से भी जाना जाता है

उज्जैन से राष्ट्रीय राजमार्ग NH 52 गुजरता है

उज्जैन शिप्रा चंबल एवं गंभीर नदी प्रवाहित होती है

उज्जैन के महिदपुर में सहकारी शक्कर कारखाना स्थित है

मंगलनाथ प्रसिद्ध नवग्रह मंदिर स्थित है

पीर मत्येंद्र नाथ प्रसिद्ध धार्मिक स्थल है

चिंतामणि गणेश प्रसिद्ध गणेश मंदिर स्थित है

विक्रमादित्य की राजधानी सिंहस्थ के लिए प्रसिद्ध है

21 जून को उज्जैन में सूर्य 90 डिग्री लंबवत होता है

सर्वाधिक अनुसूचित जनजाति (sc) जनसंख्या का प्रतिशत वाला जिला है

उज्जैन कर्क रेखा पर अवस्थित जिला है

उज्जैन मैं ही सबसे पहले शून्य का प्रयोग गणितज्ञ ब्रह्मा गुप्त द्वारा किया गया ब्रह्मा गुप्त ने ही गुरुत्वाकर्षण का सिद्धांत किया था

उज्जैन में स्थित नवग्रह मंदिर साल में सिर्फ एक बार ही खुलता है

FAQ:-

उज्जैन की स्थापना किसने की थी

अवंती मैं किया था

2. वराह मिहिर की जन्मभूमि है

कायथा

3. उज्जैन प्राचीन काल में एक जनपद था इस जनपद का नाम क्या था

अवंती था

4. छठवी सदी ईसा पूर्व (महाजनपदकाल) में अवंती में किस धर्म का अधिक प्रभाव था

बौद्ध धर्म का

5. अवंती जनपद का कौन सा राजा हाथी पालन कला का विशेषज्ञ था

चंड प्रघोट

किस प्रिंट के लिए उज्जैन में विश्व विख्यात है

भैरमगढ़ प्रिंट

7. इंडस्ट्रियल कॉरिडोर के तहत उज्जैन में किस राष्ट्रीय शहर की स्थापना प्रस्तावित है

नॉलेज सिटी

8. उज्जैन के शक राज्य का उन्मूलन किस गुप्त सम्राट ने किया था

चंद्रगुप्त विक्रमादित्य

उज्जैन किस राजपूत वंश की राजधानी रहा

गुर्जर प्रतिहार

10. उज्जैन के जंतर मंतर की स्थापना किस आमेर नरेश ने की थी

सवाई राजा जयसिंह

11. उज्जैन की सीमा किस राज्य से लगती है

किसी भी राज्य से नहीं लगती है

12. उज्जैनी का मौर्यप्रान्ती कौन था जिसको बिंदुसार ने तक्षशिला विद्रोह दमनार्थ था

अशोक

13. उज्जैन 1810 तक किस मराठा वंश की राजधानी था

सिंधिया

मुझे उम्मीद है कि आपको उज्जैन जिले के बारे में जानकारी (General knowledge of Ujjain district) मिला होगा,

ऐसे ही जानकारी के लिए सब्सक्राइब करें और इस पोस्ट को अधिक से अधिक लोगों तक शेयर करें।

We provide insights on diverse topics including Education, MP GK, Government Schemes, Hindi Grammar, Internet Tips and more. Visit our website for valuable information delivered in your favorite language – Hindi. Join us to stay informed and entertained.

Sharing Is Caring:

2 thoughts on “उज्जैन जिले के बारे में | General knowledge of Ujjain district”

Leave a Comment