मध्यप्रदेश के साहित्यकारों की रचनाएं

यहां पर हमने मध्यप्रदेश के साहित्यकारों की रचनाएं तथा मध्यप्रदेश के प्रमुख साहित्यकारों के नाम बताया गया है ।

यह टॉपिक प्रतियोगी परीक्षा की दृष्टि से अतिमहत्वपूर्ण टॉपिक है अगर आप mp के किसी भी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं तो निश्चित रूप से आपके लिए यह जानकारी महत्वपूर्ण होगा ।

के साहित्यकारों की रचनाएं
मध्यप्रदेश के साहित्यकारों की रचनाएं

मध्यप्रदेश के साहित्यकारों की रचनाएं ! Compositions of litterateurs of Madhya Pradesh

मप्र. के साहित्यकार नामऔर उनके रचनाएँ
कालिदासअभिज्ञानशाकुन्तलम,विक्रमोर्वशीयम,मालविका, अग्निमित्रम, मेघदूतम, ऋतुसंहम, रघुवंशम, कुमारसंभवम
भतृहरिश्रृंगार शतक, वैराग्य शतक, नीति शतक
भवभूतिमहावीरचरित, उत्तर रामचरित, मालतीमाधव
बाणभट्टहर्षचरित,मुकुट ताड़ितक, चंडिका शतक, कादंबरी, पार्वती, परिणय
केशवदासरामचंद्रिका,वीरसिंह देव, रसिकप्रिया, कविप्रिया, जंहागीर जस चन्द्रिका, विज्ञान गीता, नख-शिख, छंदमाला रतन बावनी,
भूषणशिवराज भूषण, शिवा बावनी, छत्रसाल दशक, भूषण उल्लास, दूषण उल्लास, भूषण हजारा
पदमाकरहिम्मत बहादुर विरुदावली, प्रतापसिंह बहादुर विरुदावली, जयसिंह बहादुर, गंगालहरी, यमुना लहरी, राम रासायना, विरुदावली
माखनलाल चतुर्वेदीहिमकिरीटनी,हिमतरंगिनी, युगचरण, समर्पण, पाँव-पाँव अमीर इरादे, गरीब इरादे, समय के पाँव, रंगों की होली, माता, कृष्ण अर्जुन नाटक सहित्य देवता
डॉ. शिवमंगल सिंह सुमनहिल्लोल, विंध्य – हिमालय, प्रलय सृजन, मिट्टी की बारात, जीवन के गान, युग का मोल, विश्वास बढ़ता ही गया पर आंखें नहीं भरी।
मुल्ला रमूजीअंगूरा, शादी, औरत जात, गुलाबी उर्दू, मुसाफिर खाना, सुबह की लताफलत, लाठी और भैंस, मशहीरे भोपाल, तारिख, शायरी जेग, दीवआने मुल्ला रमूजी जिंदगी।
शरद जोशीजीप पर सवार इल्लियां, रहा किनारे बैठ, यथासंभव, दूसरी सतह, अंधों का हाथी, एक था गधा, फिर किसी बहाने, मैं और केवल मैं, मैं
भवानीप्रसाद मिश्रचकित है दुःख, गीत फरोश, सतपुड़ा के घने जंगल, बुनी हुई रस्सी, गांधी पंचशप्ति, अंधेरी कविताएं
हरिशंकर परसाईरानी नागफनी की कहानी, तट की खोज, भूत के पांव पीछे, शिकायत मुझे भी है, श्रध्दा का दौर, विकलांग, हंसते हैं- रोते हैं, ठिठुरता हुआ गणतंत्र, तब की बात और थी।
बालकृष्ण शर्मा नवीनकुमकुम, रश्मि रेखा अपलक, बिनोवा स्तवन, उर्मिला, हम विषपायी जनम के ,क्वांसी प्राणायरण, स्तवन।
गजानन माधव मुक्तिबोधचांद का मुंह टेड़ा है, नये निबंध, भूरी-भूरी खाक धूल, एक साहित्यिक की डायरी, नई कविता का आत्म-संघर्ष, नए साहित्य का सौंदर्य शास्त्र, भारत इतिहास और संस्कृति।
सुभद्रा कुमारी चौहानत्रिधारा,बिखरे मोती, मुकुल, सीधे – सादे चित्र सभा के खेल, उन्मादनी, झांसी की रानी, वीरों का कैसा हो बसंत
मध्यप्रदेश के साहित्यकारों की रचनाएं

अन्य महत्वपूर्ण तथ्य

★ कालिदास भारत के सेक्सपियर के नाम से जाना जाता है।

★ कालिदास की रचना कुमारसम्भवम संस्कृत का महाकाव्य है जिसमें शिव पार्वती के विवाह, कुमार कार्तिकेयन के जन्म के साथ तारकासुर वध की कथा का वर्णन है।

★ संस्कृत की पहली रचना जिसका अंग्रेजी में अनुवाद हुआ है

★ भवभूति की तुलना कवि मिल्टन से की जाती है।

★ केशवदास को कठिन काव्य का प्रेत और हिरदय हीन कवि कहा जाता है।

★ माखनलाल चतुर्वेदी ने प्रभा नामक पत्रिका का प्रकाशन तथा कर्मवीर समाचार पत्र का संपादन किया है।

Leave a Comment